स्वच्छ भारत अभियान महत्व कविता नारे | Swachh Bharat Abhiyan Mission Kavita Slogan in hindi

स्वच्छ भारत अभियान का महत्व, भाषण, कविता, नारे ( Swachh Bharat (Swachchhata) Abhiyan Mission, speech, Poem, Slogan in hindi)

देश का भविष्य युवाओं के भविष्य पर निर्भर करता है. इसलिए एक नागरिक, एक छात्र और एक युवा के रूप में देश के विकास के लिए खुद जिम्मेदार है. इसके लिए हमें सदैव तत्पर रहना चाहिए. इसलिए इसकी शुरुआत देश की स्वच्छता से शुरू की जा सकती है.

क्या है स्वच्छ भारत अभियान (What is Swachh Bharat Abhiyan)

स्वच्छ भारत अभियान / क्लीन इंडिया कैंपेन प्रधानमंत्री मोदी एवं भारत सरकार द्वारा शुरू किये गए सबसे महत्वकांक्षी प्रोजेक्ट में से एक है. यह अभियान राष्ट्रीय स्तर पर स्वच्छता की ओर ध्यान देने वाला अभियान है. हालाँकि इससे पहले की सरकारों द्वारा भी इसे अलग – अलग नाम से अलग – अलग तरीके से शुरू किया गया था. परन्तु मोदी सरकार द्वारा शुरू किये गए इस प्रोजेक्ट में पहले की तुलना में काफी हद तक लोगों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता फैली है.

स्वच्छ भारत अभियान कब और कैसे शुरू हुआ / स्थापना दिवस ? (Launching Date Of Swachchhata Abhiyan)

स्वच्छ भारत अभियान को प्रधानमंत्री मोदी जीके सत्ता में आने के बाद शुरू किया गया था. इसकी घोषणा उन्होंने महात्मा गाँधी जी की जयंती के अवसर पर 2 अक्टूबर 2014 को अधिकारिक तौर पर की थी. इस उपलक्ष्य में उन्होंने दिल्ली के राज घाट में यह घोषणा की एवं वहां उन्होंने स्वयं सफाई कर इस अभियान को शुरू किया. इस अभियान में भारत के सभी हिस्सों के लगभग 3 मिलियन सरकारी कर्मचारी, स्कूल एवं कॉलेज के छात्र शामिल थे.

यह मिशन अपने आप में दो भागों में बंटा हुआ है. स्वच्छ भारत अभियान (ग्रामीण / रूरल क्षेत्रों के लिए), इसका संचालन पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय द्वारा किया जा रहा है और स्वच्छ भारत अभियान (शहरी क्षेत्रों के लिए), इसका संचालन आवास और शहरी मंत्रालय के तहत किया जा रहा है. इस मिशन में एम्बेसडर्स और नेशनल रियल – टाइम मॉनिटरिंग, विभिन्न एनजीओ’स और साथ ही विभिन्न अधिकारी आदि भारत की स्वच्छता के लिए अपने विचार के प्रति काम कर रहे हैं. सन 2019 मे महात्मा गाँधी जी की 150 वी जयंती है, तो मोदी जी ने 2019 तक उनके स्वच्छ भारत के सपने को पूरा करने की बात कही.

स्वच्छ भारत अभियान का चिन्ह  ( Swachchhata Abhiyan Logo)

इस अभियान की घोषणा के दौरान मोदी जी ने स्वच्छ भारत अभियान के लोगो के बारे में भी बात की. स्वच्छ भारत अभियान का लोगो गाँधी जी के चश्मे की तरह है, जिसमें स्वच्छ भारत लिखा हुआ है. उन्होंने कहा था कि – यह लोगो यह दर्शाता है, कि गाँधी जी इस चश्मे के माध्यम से देख रहे है, कि उनके द्वारा शुरू की गई यह पहल कितना काम कर रही है. कैसे कर रही है और देश के कौन – कौन से नागरिक इसमें हिस्सा लेने के लिए तत्पर हैं. इस अभियान को शुरू करने के साथ एक टैग लाइन भी जारी की गई है ‘एक कदम स्वच्छता की ओर’.

स्वच्छ भारत अभियान से जुड़े मुख्य नाम  (Name Of Brand Ambasddor)

स्वच्छ भारत अभियान मे योगदान देने के लिए सर्वप्रथम मोदी जी ने 9 लोगो को इसमे शामिल किया, इनमे मृदुला सिन्हा, सचिन तेंदुलकर, बाबा रामदेव, शशी थुरुर, अनिल अंबानी, कमल हसन, सलमान खान, प्रियंका चोपड़ा और तारक मेहता का उल्टा चश्मा की टीम शामिल है, तथा अब इन 9 लोगो को अन्य 9 लोगो को शामिल करने की बात कही, इस प्रकार एक श्रंखला बनाने को कहा ताकि स्वच्छ भारत अभियान जल्द से जल्द ओर अच्छी तरह से पूरा हो जाए.

स्वच्छ भारत अभियान को सहयोग करने कई लोग आगे आए, जिसमे अभिनेता आमिर खान, अमिताभ बच्चन, कपिल शर्मा, v.v.s. लक्ष्मण, सौरव गांगुली, किरण बेदी, रमोजी राव तथा  सभी राज्यो के मुख्य मंत्री शामिल है.

स्वच्छ भारत अभियान मुख्य उद्देश्य (Aim and Objective Of Swachchhata Abhiyan or Swachh Bharat Mission)

इसका सबसे बड़ा लक्ष्य भारत के सभी शहरों और गांवों में शौचालय बनवाना एवं पूरे देश की सडकों एवं इंफ्रास्ट्रक्चर को स्वच्छ करना है. इस अभियान के बारे में सबसे अच्छी बात यह है, कि यह सभी स्कूलों और कॉलेजों में शौचालयों की सफाई और उपलब्धता पर ध्यान केन्द्रित कर रहा है. इस मिशन का मुख्य लक्ष्य 2 अक्टूबर 2019 तक ‘स्वच्छ भारत’ के दृष्टिकोण को पूरा करना है. यह तिथि राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी जी की 150 वीं जयंती है. इस अभियान में 62,000 करोड़ रूपये तक के निवेश करने की उम्मीद की गई है. इसके अलावा सरकार ने इसे ‘राजनीति से परे’ एवं ‘देशभक्ति से प्रेरित’ होने के रूप में लेने के लिए कहा है. इसके कुछ महत्वपूर्ण उद्देश्य इस प्रकार हैं –

  • भारत में खुले में शौच की व्यवस्था को ख़त्म करना.
  • अव्यवस्थित शौचालयों को व्यवस्थित शौचालय में परिवर्तित करना.
  • हाथ से सफाई करने की प्रणाली को हटाना.
  • लोगों में व्यावहारिक परिवर्तन लाने के साथ ही लोगों को स्वास्थ्य एवं स्वच्छता की प्रथाओं के बारे में जागरूक करना.
  • सार्वजानिक जागरूकता पैदा करने के लिए लोगों को स्वच्छता और सावर्जनिक स्वास्थ्य के कार्यक्रमों से जोड़ना.
  • स्वच्छता से संबंधित सभी प्रणालियों को डिज़ाइन, एक्सीक्यूट और ऑपरेट करने के लिए शहरी स्थानीय निकायों को मजबूत बनाना.
  • पूरी तरह से वैज्ञानिक प्रोसेसिंग शुरू करने के लिए, डिस्पोजल का पुनः उपयोग और ठोस कचरे की रिसाइकिलिंग करना.

2018 में स्वछ्ता अभियान को बढ़ावा देने के लिये स्वच्छ भारत ग्रीष्मकालीन इंटर्नशिप शुरू की गई है.

योजनायें (Swachh Bharat Abhiyan Plans)

इस अभियान को शुरू करने के लिए एवं सभी उद्देश्य को पूरा करने के लिए निम्न योजनाये बनाई गई है –

  • शौचालय बनवाना एवं उसका उपयोग करने के लिए लोगों को जागरूक करना :- मोदी जी ने देश में स्वच्छता अभियान शुरू करने के लिए सबसे पहली योजना देश के सभी गाँव एवं शहरों में शौचालय बनवाने की शुरू की है. हम सभी जानते है कि खुले में शौच करना कितना खतरनाक एवं हानिकारक है. इससे बहुत सी बीमारियाँ फैलती है. इस योजना के तहत खुले में शौच करने वाले लोगों को खास कर के महिलाओं को इससे होने वाली परेशानियों एवं शारीरिक नुकसानों के बारे में बताये हुए लोगों को इसके प्रति जागरूक एवं प्रेरित किया गया है. और उनसे शौचालय का इस्तेमाल करने के लिए भी अनुरोध किया गया है. इसके लिए सरकार ने देश के सभी छोटे बड़े गांवों एवं कस्बों में शौचालय बनाने का अभियान चलाया. साथ ही सभी बाजारों, रेलवे स्टेशनों, बस स्टैंड, पर्यटन स्थलों आदि में सार्वजनिक शौचालय का निर्माण भी किया जाने का फैसला किया है. इस योजना में जिन स्थानों पर लोगों के लिए घरेलू शौचालय बनवाना संभव नहीं था उन स्थानों पर सार्वजनिक शौचायल बनवाए गये. इस तरह से देश में कुल 2 करोड़ शौचालय बनाने का लक्ष्य सरकार द्वारा तय किया गया. ताकि हमारा भारत देश खुले में शौच से मुक्त हो सके.
  • सड़कों की सफाई करना :- इसके अलावा देश में कई स्थानों पर जैसे मैदानों, सड़कों, पर्यटन स्थलों, बीच आदि पर लोगों द्वारा कचरा फेकने के कारण बहुत अधिक प्रदूष्ण फैलता है. जिसके कारण भी कई बीमारियाँ फैलती है. इसके लिए सरकार ने ऐसे स्थानों की सफाई कर वहां अलग – अलग तरह के डस्टबिन रखने की योजना बनाई है और लोगों से उस डस्टबिन में यानि कचरा पेटी में कचरा फेकने की अपील की है. इसके साथ ही इस अभियान में स्कूल के शिक्षकों और छात्रों के साथ मिलकर उन्हें इसका हिस्सा बनने के लिए प्रेरित करने के लिए भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्री ने आग्रह किया है.
  • कचरा का प्रबंधन :- कचरा तो सभी जगह इकठ्ठा होता है, ऐसे में उसका सही से प्रबंधन होना भी आवश्यक है. इसके लिए सरकार ने निम्न चरणों के माध्यम से कचरे का प्रबंधन किया है –
  1. कचरे को अलग  अलग इकठ्ठा करना :- नये नियम के अनुसार कचरे को 3 अलग – अलग श्रेणियों में रखना बहुत महत्वपूर्ण है वे श्रेणियां – बायोडिग्रेडेबल (स्वाभाविक रूप से सड़ने वाला गीला कचरा), सूखा कचरा (प्लास्टिक, पेपर, धातु, लकड़ी) और घरेलू खतरनाक कचरा (बच्चों के डायपर, नैपकिन, मच्छर रिपेल्लेंट्स, सफाई एजेंट्स) आदि है. ऐसा करने से कचरा इकठ्ठा करने वालों को भी आसानी होगी. और साथ ही गीला कचरा को कम्पोस्टिंग / बायोमैथेनेशन के लिए उपयोग किया जा सकेगा. और सूखे कचरे को रिसाइकिलिंग की सहायता से फिर से उपयोग किया जा सकेगा.
  2. सेनेटरी नैपकिन का कलेक्शन और डिस्पोजल :- डायपर और सेनेटरी पैड जैसे सेनिटरी कचरे का प्रभावी ढंग से प्रबंध करने के लिए नया नियम यह है, कि उत्पाद बनाने वाली कंपनियों को इसे बेचते समय इसके प्रबंधन के लिए पाउच या रेपर देना आवश्यक है. इस कचरे से निपटने के लिए सभी स्थानीय अधिकारीयों के लिए अपने क्षेत्र में एक सेनेटरी लैंडफिल स्थापित करना अनिवार्य कर दिया है. 1 मिलियन या उससे अधिक की आबादी के लिए एक सेनेटरी लैंडफिल स्थापित करने के लिए 2 साल की समय सीमा तय की गई है. यह सभी लैंडफिल स्थानीय निकायों एवं जनगणना वाले कस्बों में स्थापित किये जायेंगे.
  3. उपयोगकर्ता शुल्क और स्पॉट जुर्माना :– नये नियम के तहत, कचरा फैकने वाले लोगों को कचरा इकठ्ठा करने, डिस्पोजल और कचरे की प्रोसेसिंग जैसी गतिविधियों के लिए कचरा इकठ्ठा करने वाले लोगों को कुछ भुगतान करना होगा. पूरे भारत में स्थानीय निकाय के पास ‘यूजर फीस’ का निर्णय लेने का अधिकार है. यदि कोई व्यक्ति इस अभियान के नियम एवं दिशानिर्देशों का उलंघन करता है, तो इसके लिए उन पर ‘स्पॉट जुर्माना’ लगाया जायेगा.
  4. नॉन  बायोडिग्रेडेबल पैकेजिंग के कचरे के लिए :- बाजार में किसी उत्पाद को बनाने वाले ब्रांड मालिक जो पैकेजिंग सामग्री का उपयोग कर अपने उत्पादों को बेचते है. वह पैकेजिंग का कचरा पर्यावरण के अनुकूल नहीं होता है. इसलिए उन्हें अपने उत्पादन में उपयोग होने वाले पैकेजिंग के कचरे को इकठ्ठा करने के लिए एक प्रणाली स्थापित करनी होगी.
  5. सड़कों में दुकानें लगाने वालों के लिए एक कचरा पेटी :– सभी सड़कों पर दुकानें लगाने वाले विक्रेताओं को खाद्य कचरे, डिस्पोजल प्लेट्स, कप, डिब्बे, रैपर, नारियल के गोले, बचा हुआ भोजन, सब्जियां और फल आदि जैसे कचरे के भंडारण के लिए उचित कंटेनर या डिब्बे रखना चहिये. आप अपने स्वयं के कचरे के लिए जिम्मेदार है, और उसे आपको स्थानीय निकायों द्वारा नॉटीफाइड किये गये कचरे के भंडारण डिपो या कंटेनर या वाहन पर कचरा जमा करना चाहिए. आजकल हर शहर के हर गली एवं मोहल्ले में कचरा वाली गाड़ी की सुविधा शुरू की गई है, यह लोगों के घर घर जाकर वहां से कचरा इकठ्ठा करती है. और फिर इसकी प्रेसिस्सिंग की जाती है.
  6. लैंडफिल के लिए दिशानिर्देश :– वह कचरा जिसे रिसाइकिल नहीं किया जा सकता, उसे लैंडफिल में खत्म किया जाता है. इसका उपयोग या तो ऊर्जा पैदा करने के लिए या डेराइव्ड ईंधन को अलग करने के लिए किया जाता है. इसका उपयोग सीमेंट या थर्मल पावर प्लांट में को – प्रोसेसिंग के लिए भी किया जाता है. यह लैंडफिल नदियों से 100 मी, तालाब से 200 मी, राजमार्गों, घरों, पब्लिक पार्क्स और जल सप्लाई के कुएं से 500 मी, और एयरपोर्ट या एयरबेस से 20 किमी दूर होना चाहिए. पहाड़ी इलाकों में इसके निर्माण से बचा जाना चाहिए.
  7. रेलवे एवं ट्रेनों की सफाई :- इस अभियान के तहत रेल मंत्रालय द्वारा भी एक योजना बनाई गई है जिसमें सभी ट्रेनों के सभी नॉन – एसी कोचों में जरुरत के अनुसार डस्टबिन, जैव – शौचालय, आटोमेटिक लांड्री से साफ किये हुए बिस्तर – रोल, आदि की सुविधा दी जाएगी. केंद्र सरकार इस अभियान के साथ अपने डिजिटल इंडिया प्रोजेक्टका उपयोग सौर ऊर्जा द्वारा संचालित ट्रैश डिब्बे के लिए कर सकती है. जैसा कि विदेशों में होता है. वहां प्रोजेक्ट के एडवांसमेंट और इनोवेशन के माध्यम से स्वच्छता दल को अलर्ट भेजा जाता है.

इस अभियान में कैसे शामिल हो सकते हैं ? (How to Get Involved in Swachh Bharat Abhiyan)

इस अभियान में हिस्सा लेने के लिए आप किसी भी समय किसी भी इवेंट में सक्रिय रूप से भाग ले सकते हैं. इसके साथ ही आप सफाई करने के पहले गंदे स्थानों के फोटो क्लिक करें, इसके बाद उस स्थान की सफाई करने के बाद उसकी फोटो क्लिक करें. और इन दोनों ही फोटो को एक साथ फेसबुक और ट्विटर जैसी सोशल मीडिया वेबसाइटों पर अपलोड करें. इसके अलावा इस फोटो को आप उस स्थान पर जाकर भी चिपका सकते है, ताकि सामान्य लोग इसे देखकर इससे परिचित एवं प्रेरित हो सके. नरेंद्र मोदी जी ने कहा है कि जो लोग ऐसा करते हैं, उनकी सोशल मीडिया वेबसाइट्स पर सरकार द्वारा अभियान में शामिल होने के लिए वास्तव में सराहना की जाएगी. इसमें कई जानी मानी हस्तियों ने हिस्सा लिया है. एक भारतीय नागरिक होने के नाते इसमें शामिल होने के लिए हमें हमारे हाथ में झाड़ू लेकर अपने आसपास के सभी गंदे स्थानों की साफ़ – सफाई करने की जरुरत है.

अतः हमें अपने हाथों को एक साथ मिलाकर और इस स्वच्छता अभियान को अपने जीवन के एक महत्वपूर्ण हिस्से के रूप में ले कर इस मिशन में भाग लेना चाहिए, क्योकि स्वच्छ भारत की दृष्टि प्रत्येक भारतीय नागरिक के प्रयासों के माध्यम से हासिल की जा सकती है नाकि केवल सरकार के प्रयासों से.

स्वच्छता स्वच्छ भारत अभियान पर नारे  (Swachh Bharat / Swachchhata Abhiyan Slogan)

  • जागो युवा जागो स्वच्छ भारत हैं तुम्हारा अधिकार लेकिन पहले उठाओं पहले कर्तव्य का भार

*******************

  • सीमा पर लड़ना ही नही हैं देशभक्ति का नाम स्वच्छ बने देश करों ऐसा काम

*******************

  • कदम से कदम मिलाओं स्वच्छता की तरफ हाथ बढ़ाओ

*******************

  • क्या दोगे आने वाले को? पूर्वजो से तुम्हे स्वतंत्र आसमान मिलान करो कोई बड़ा वादा

    बस दो स्वच्छ आसमा की छाया

*******************

  • युवा शक्ति हैं सब पे भारी, उठाओं झाड़ू गंदगी बाहर करो सारी

*******************

  • स्वच्छता ही हैं देश का सौन्दर्य, जिसे लाना हैं हमारा कर्तव्य

*******************

स्वच्छता स्वच्छ भारत अभियान पर कविता व शायरी  (Swachh Bharat Swachchhata Abhiyan

Poem Shayari)

 

मैं नहीं तू, तू नहीं मैं
सदा ही करते तू तू मैं मैं
करो कभी कोई अच्छा काम
बढ़ाये जो भारत देश का नाम
देश की धरोहर पर हैं सबका अधिकार
फिर क्यूँ हैं इसकी सफाई से इनकार
नहीं हैं कोई बहुत बड़ा उपकार
बस करना हैं जीवन में बदलाव
शहर को मानकर घर अपना
निर्मल स्वच्छ हैं उसे भी रखना
कूड़े दान में फेंको कूड़ा
हर जगह ना फेंको पुड़ा
थूकने को नहीं हैं धरती मैया
बदलो अपनी आदत भैया
न करो किसी पड़ौसी का इंतजार
देश हैं सबका बढ़ाओ स्वच्छता अभियान

Update –

25/8/2018

मुख्यालय वेस्टर्न एयर कमांड, आईएएफ द्वारा पर्यटकों और स्थानीय लोगों के बीच प्रधानमंत्री के सबसे बड़े मिशन ‘स्वच्छ भारत अभियान’ को बढ़ावा देने के लिए कार एवं बाइक रैली का आयोजन किया गया, जोकि 10 से 23 अगस्त 2018 तक दिल्ली से थोइस तक के लिए थी. 10 अगस्त 2018 को इस रैली को नई दिल्ली से एयर मार्शल एनजेएस ढिल्लों एवीएसएम, सीनियर एयर स्टाफ अधिकारी, वेस्टर्न एयर कमांड द्वारा फ्लैग ऑफ किया गया. इस 15 दिनों की अवधि के दौरान, दिल्ली से यात्रा शुरू कर अंबाला, मनाली, जिस्पा और लेह एनरूट के माध्यम से थोइस तक गई और उसके बाद द्रास, कारगिल, श्रीनगर, उधमपुर और अंबाला से होती हुई वापस दिल्ली आ गई. इस तरह से इस रैली ने कुल 3200 किलोमीटर की दूरी तय की.